अयोध्या/फ़ैज़ाबाद/यूपी।
चुनावों की बिगुल बज चुकी है ।यूपी में सातों चरण में वोट पड़ेंगे अयोध्या यानी फ़ैज़ाबाद संसदीय सीट पर ६ मई को मतदान होना है ।अभी वहाँ से सांसद हैं लल्लू सिंह ।लल्लू सिंह का पार्टी व संघ में बड़ा पुराना बैकग्राउंड रहा है और रामजन्मभूमि मामले में उनपर भी केस दर्ज है ।वे १९९१ से लगातार २०१२ तक पार्टी से विधायक रहे हैं ।२०१२ में हारे और फिर २०१४ में लगभग तीन लाख वोटों से सपा को हराकर विजयी हुए। सांसद जी की जनप्रयिता व व्यवहार विरले राजनेताओ की तरह है ख़ासकर ग़रीब वंचित और अति दलित व अति पिछड़े समाज के लोग शुरू से ही लल्लू सिंह को पसंद करते रहे हैं ,वहीं विगत पाँच वर्षों के कार्यकाल में सांसद निधि के अतिरिक्त केंद्र व राज्य दोनो सरकारों की नितियो समेत दर्जनो सड़क पुल पलाईवोवर से लेकर विकास के अनेक कार्यों को कराने में कोई कोर कसर नही छोड़ी है । वैसे सबसे बड़ी बात सांसद महोदय की यह रही है की सर्व सुलभ हैं तथा स्वच्छ छवि के नेता रहे हैं ।और भ्रष्टाचार एवं जातिवादी राजनीति के दौर में भी पारंपरिक राजनीति के चेहरे के रूप में जाने जाते हैं ।इसलिए भाजपा निश्चित ही उनपर फिर से दाँव लगाएगी ।क्योंकि हर तरह से लल्लू सिंह चुनावी राजनीति के सफल खिलाड़ी हैं और पार्टी की अपेक्षाओं पर पूरी तरह सफल उतरेंगे। ...


Leave a comment

दिल्ली।
प्रधानमंत्री आवास पर इस वक्त एक बड़ी बैठक चल रही है। खबरों के मुताबिक इस बैठक में गृह मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल मौजूद हैं।...


Leave a comment

प्रयागराज।
कुम्भ नगर: सुदर्शन महराज राधा कृष्ण सेवा संस्थान(न्यास) चंदौली के चाणक्य पीठाधीश्वर सुदर्शन महराज ने देश के युवाओं में सामाजिक समरसता बनाये रखने हेतु भगवान परशुराम अखाड़े का निर्माण किया है। इस अखाड़े का उद्देश्य युवाओ में बढ़ रही धर्म और समाज के प्रति भ्रंतियों को दूर करना है और साथ ही सामाजिक समरसता का प्रादुर्भाव करना है। महराज श्री ने अपने शिविर में जगदगुरु शंकराचार्य नरेन्द्रानन्द और जगदगुरु शंकराचार्य वशुदेवानंद सरस्वती के सानिध्य में इस अखाड़े की नींव रखी। महराज अपने शिविर में विगत कई वर्षों से समाज के बुद्धजीवियों और समाजसेवियों के साथ संगोष्ठी करते आये है।इसी क्रम में आज संस्थान के शिविर में अभिनन्दन समारोह का आयोजन किया गया। संस्थान के शिविर में अनेकों धर्म संगत कार्य किये जाते हैं शिविर में विगत 13 जनवरी से 23 फरवरी तक अन्य क्षेत्र चलाया गया जिसमें लगभग 5000 श्रद्धालुओं ने प्रतिदिन भोजन प्रसाद ग्रहण किया ।...


Leave a comment

प्रयागराज।
प्रयागराज। उपेक्षा, उपहास, विरोध और अंततः स्वीकृति ,सत्य को सदैव चार चरणों से गुज़रना पड़ता है । उसे स्थापित होने के लिए एक लम्बे संघर्ष का सामना करना ही पड़ता है। उक्त कथन कथन गुरुदेव आशुतोष महाराज अपने प्रवचनों में कहा करते है। इसी मंतव्य को भगवान बुद्ध के जीवन चरित्र के माध्यम से कुम्भ मेला, प्रयागराज में डीजेजेएस द्वारा प्रस्तुत किया गया। जिसे स्कूल एवं कॉलेज के छात्र- छात्रों द्वारा विशेष रूप से सराहा गया। महात्मा बुद्ध के सामने सत्य के प्रचार प्रसार में आयी चुनौतियों को बहुत प्रभावशाली तरीके से नाटिका के माध्यम से प्रस्तुत किया गया। उनके मार्ग की सबसे बड़ी रूकावट कोई और नहीं अपितु स्वयं उनका चचेरा भाई देवदत्त था। एक समय जब महात्मा बुद्ध कुछ समय के लिए संघ से बाहर गए उस समय उसने संघ के भिक्षुओं को बहला फ़ुसला कर संघ विभाजन का असफल प्रयास किया था। केवल इतना ही नहीं उसने एक आक्रामक हाथी भेजकर बुद्ध को मारने का प्रयास किया तथापि बुद्ध के निकट पहुंच उनके प्रभाव के आगे वो हाथी बिल्कुल शांत हो गया। अंत में जाके देवदत्त ने महात्मा बुद्ध को गुरु स्वीकार करते हुए आध्यात्म का मार्ग अपनाया। इस नाटिका को सार रूप में साध्वी परमा भारती ने बताया कि वर्तमान समय में आशुतोष महाराज एवं उनके शिष्यगण ठीक इसी तरह की चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। आज डीजेजेएस ने भगवान बुद्ध की ही भांति इस अनमोल निधि ब्रह्मज्ञान का प्रचार प्रसार के साथ अज्ञानता के विरूद्ध एक आध्यात्मिक क्रांति का बिगुल बजाया है। अथाह विरोध के उपरांत भी महाराज की ये गहन समाधि इस महान लक्ष्य के प्रति उनके समपर्ण का प्रमाण है। उनका सम्पूर्ण जीवन समर्पित है धूं- धूं जलते इस विश्व को आध्यात्म की शीतल फुहारों से सींचने में। आज के समय में जहाँ व्यक्तिगत स्वार्थ पूर्ति के लिए हर कार्य किये जा रहे हैं यह कथन अतिश्योक्ति के समान प्रतीत होता है। केवल एक ब्रह्मनिष्ठ गुरु के जीवन में आने के बाद इंसान का दिव्य चक्षु जब खुलता है तभी वहजीवन की वास्तविकता को समझ आत्म उन्नति की ओर अग्रसर हो पाता है। साध्वी ने आह्वान किया उन सभी जिज्ञासुओं का जो इस ब्रह्मज्ञान को प्राप्त कर आध्यात्म की ओर अग्रसर होना चाहते है।...


Leave a comment

नयी दिल्ली / कोलकाता ।
सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की बेंच ने बंगाल सरकार व ममता बनर्जी को तगड़ा झटका देते हुए बंगाल के पुलिस कमिश्नर को सीबीआई के सामने पूछताछ के लिए प्रदेश के बाहर शिलांग में जाने का आदेश दिया है। यह आदेश ममता के समर्थन में खड़े दलों के नेताओं की भी मोदी विरोधी मुहिम में झटका लगा है क्योंकि वे सीबीआई के दुरुपयोग के आरोप के साथ मैदान में थे । ऐसा प्रस्तुत किया जा रहा था कि केंद्र सरकार ग़लत कर रही है ।लेकिन हक़ीक़त इसके उलटी है ,मोदी सरकार के विरोध में संविधान लोकतंत्र व संघीय ढाँचा सब पर ग़लत बयानी विपक्ष किए जा रहा था अब उसको जवाब देना मुश्किल हो जाएगा । वास्तविकता यह है की चुनावी साल में सही क़दम को भी राजनीति से प्रेरित बताकर सियासी फ़ायदा उठाने का माहौल बनाने की कोशिश हो रही है ।...


Leave a comment