मथुरा/उत्तरप्रदेश   35
मथुरा में मारे गए लस्सी विक्रेता स्वर्गीय भरत यादव की केवल दो बिटिया है और सामने अंधकारमय भविष्य। जो अपराधी हैं उनमें मुख्य अभियुक्त तो पकड़ा भी नहीं जा सका है और जो पकड़े गए हैं उन पर बेहद हल्की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। अब पीड़ित परिवार अपना भविष्य देखे या मुकदमा करे। कल कुछ मित्र कह रहे थे कि परिवार को आर्थिक मदद की आवश्यकता नहीं है पर आज मथुरा के स्थानीय और बेहद विश्वश्त लोगों ने सूचित किया है कि परिवार के आगे आर्थिक संकट तो है ही क्योंकि मृतक लस्सी बेचने का छोटा किंतु सम्मानजनक काम करता था और उसकी आय बेहद सीमित थी। आर्थिक मदद उन ज़ख्मों को तो नहीं भर सकता जो इस अभागे परिवार को मिला है पर उनको थोड़ा हौसला तो दे ही सकता है कि उनका समाज उनके साथ खड़ा है। उपलब्ध कराई गई पासबुक की छायाप्रति के अनुसार स्वर्गीय भारत यादव और उनकी पत्नी द्वारा संचालित संयुक्त खाता स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर में था। 1 April, 2017 के बाद से चूंकि SBBJ का विलय स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में हो गया है इसलिये IFSC कोड परिवर्तित हो गया है। अब चूंकि श्री भरत यादव इस दुनिया में नहीं हैं तो खाता उनकी पत्नी के द्वारा संचालित किया जा रहा है। खाते का विवरण इस प्रकार है:- Name - Mrs. Nitu Account No - 61232539759 IFSC code - SBIN0031010 Branch :- Ghiya Mandi, Mathura स्वयं भी यथासंभव मदद करिये और औरों को प्रेरित कीजिये। बाकी उनकी बेसहारा पत्नी और मासूम बच्ची की तस्वीर देखने के बाद कुछ कहने की आवश्यकता नहीं है। उल्लेखनीय है कि इस अपील का व्यापक असर जहां एक तरफ समाज मे हुआ और लोगो ने पीङित परिवार की अपने स्तर से आर्थिक मदद की कोशिश करी वहीं मामला जब बङा होने लगा तो यूपी सरकार भी सक्रिय हुयी और दो लाख का चेक आर्थिक सहायता के रूप मे मृत भारत यादव की विधवा को प्रदान किया। लेकिन परिवार की बच्चियो की पढाई के लिए एवं उनकी जिंदगी की बेहतरी के लिए सोशल मीडिया पर लगातार संवेदनाएं सामने आ रही है,इस संदर्भ भे उत्साहित व एकजुट नवयुवको ने एक 'सहोदर' नामक व्हासअप समूह भी बनाया है जिसकी चिंता के केंद्र मे इस तरह की हिंसा के शिकार पीङित परिवारो को समाज से स्वतःस्फूर्त सहायता का अभियान जारी रखने की इच्छा दिखती है। हालांकि ऐसी छोटी और निजी पहल पहले भी होती रही है लेकिन जिस तरह से इस घटना के बाद संगठित होकर युवाओ ने सोशल मीडिया के प्लेटफार्म का सकारात्मक उपयोग करने का बीङा उठाया सै वह बदलाव को दर्शा रहा है तथा इसकी गूंज सत्ता के गलियारो तक गयी है।कहीं न कहीं इसका सार्थक असर दिखना तय है। ...


Leave a comment