नई दिल्ली/रायबरेली   197
कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ झूठे नाम रखने व उपयोग करने के संबंध में संसदीय क्षेत्र रायबरेली में उनके विरुद्ध भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ चुके दिनेश प्रताप सिंह ने थाने में रिपोर्ट दर्ज करने के लिए प्रार्थनापत्र दिया है।जिसमे उन्होंने साफ कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष ने 1982 में जो नागरिकता पायी है उसमें उनका नाम ऐंटेनिया माइनो गांधी बताया गया है।जबकि वे भारत मे लगातार सोनिया गांधी नाम से खुद को सर्वत्र प्रस्तुत करती रही हैं।यह झूठ कपट और फर्जीवाड़े का अपराध बनाता है,क्योंकि उन्होंने अपने शपथ पत्र नामांकन पत्र और अध्यक्ष के रूप में कार्य सब मामलों में अपना वास्तविक नाम न लिखकर सोनिया गांधी नाम का उपयोग किया है।जो कि भारतीय दंड संहिता के तहत गम्भीर अपराध की श्रेणी में आता है। दिलचस्प है कि सुब्रह्मण्यम स्वामी समेत कई लोग यह आरोप पूर्व में लगाते रहे हैं परंतु पहली बार है जब किसी ने इसकी पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।और जब अर्णव गोस्वामी द्वारा ऐंटेनिया माइनो नाम का विवाद आ चुका है और कांग्रेसियो ने अर्णव पर अनेक स्थानों पर केस दर्ज कराए है8न,वैसे माहौल में रायबरेली में सोनिया के खिलाफ यह शिकायत पत्र पूरे मामले को बहुत बड़ा बनाने वाला है और चूंकि यह शिकायती पत्र पिछले चुनाव में उतरे भाजपा प्रत्याशी द्वारा दिया गया है तो यह कांग्रेस और भाजपा दोनों के सीधे टकराव की ओर इशारा करता है।हालांकि इस संदर्भ में पुलिस ने अब तक कोई बयान नही दिया और न ही भाजपा की ओर से कोई आधिकारिक बयान इस पर आया है ,फिर भी यह देखना दिलचस्प होगा कि अब आगे क्या होता है और इस मुद्दे पर पुलिस ,सरकार व कांग्रेस का अगला कदम क्या होता है ? ...


Leave a comment